Saturday , October 20 2018
Loading...

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के बाद देशभर में सियासत जारी

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के बाद देशभर में सियासत जारी है. विपक्ष बीजेपी पर निशाना साध रहा है तो वहीं, एनडीए विपक्ष का करारा जवाब दे रही है. बिहार में सियासत और भी तेज हो गई है, जब आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने आरजेडी को बिहार की सबसे बड़ी पार्टी बता कर कर्नाटक के तर्ज पर आरजेडी को सरकार बनाने के निमंत्रण की मांग कर रही है. इस बयान के बाद बिहार में सियासी बवाल मच गया है.

Image result for तेजस्वी यादव के बयान के खिलाफ नीरज कुमार

जेडीयू प्रवक्ता और बिहार विधान पार्षद नीरज कुमार ने बिहार में सरकार बनाने के दौरान संख्याबल पर सवाल उठाए जाने पर पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को अंक गणित मजबूत करने के लिए ‘मनोहर पोथी’ पढ़ने की सलाह दी है. उन्होंने तेजस्वी के नाम खुला संदेश लिखा है.

Loading...

 

नीरज कुमार ने कहा कि, तेजस्वी जी ‘गरीब’ के पुत्र होने के कारण डीपीएस स्कूल, दिल्ली में पढ़े हैं, इस कारण उनका अंक गणित के क्षेत्र में ज्ञान कमजोर है. बिहार में धर्मनिरपेक्षता के लिए भ्रष्टाचार से समझौता नहीं करने के कारण 26 जुलाई 2017 को जेडीयू महागठबंधन से अलग हुई और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिना सत्ता का मोह किए राजभवन जाकर त्याग पत्र दे दिया.

इसके तुरंत बाद राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) का बिना शर्त सरकार को समर्थन पत्र मिल गया और इसी के आधार महामहिम राज्यपाल महोदय ने स्वविवेक से फैसला लेते हुए 27 जुलाई को नीतीश कुमार जी को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई और 48 घंटे के अन्दर सरकार ने विधानसभा में बहुमत साबित कर दिखा दिया.

नीरज कुमार ने कहा तेजस्वी जी, आप राजनीति में अनुकम्पा के आधार पर विधायक बने और इसी पारिवारिक अनुकम्पा पर विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता भी बन गए परन्तु राजनीति में सरकार के गठन की प्रक्रिया के ज्ञान का अभाव है. आप उच्च शिक्षा तो ग्रहण नहीं कर सके परंतु मेरी सलाह है कि राजनीति जीवन में लंबा सफर तय करने के लिए आप कम से कम राज्यपाल की शक्तियों, बहुमत साबित करने की प्रक्रिया और विधानसभा की कार्यसंचालन नियमावली का अध्ययन कर लें. अगर अध्ययन करने में सक्षम नहीं हों तो किसी अन्य जानकार से इसकी जानकारी ले लें.

वैसे आपके लिए यह भी जान लेना ठीक रहेगा कि बिहार में गठबंधन का स्वरूप बदला है, लेकिन नीतीश जी ने जिस मुद्दे को लेकर जनादेश प्राप्त कर सत्ता में आए हैं, वह मुद्दे नहीं बदले हैं. आज भी सात निश्चय, कानून का राज, सुशासन के तहत बिहार आगे बढ़ रहा है. हां, जेडीयू के लिए धर्मनिरपेक्षता के लिए संपत्ति सृजन कभी आवश्यकता नहीं रही है और आज भी नहीं है. धर्मनिरपेक्षता और राजनीति के नाम पर संपत्ति सृजन करना आपको और आपके परिवार के लोगों को मुबारक.

नीरज कुमार ने तेजस्वी यादव को खुला संदेश लिखकर उनके सारे सवालों का जवाब दिया है. गठबंधन पर तेजस्वी के आरोपों का नीरज कुमार ने कड़ा जवाब दिया है. इसके साथ ही उनके ज्ञान को लेकर भी तीखी टिप्पणी की है. ऐसे में बिहार में सियासी बवाल और भी तेज होने की संभावना है.

Loading...