Sunday , May 27 2018
Loading...

तुर्की व ईरान ने सीरिया में संकट के निवारण की दिशा में ठोस कदम उठाए

रूस, तुर्की  ईरान के विदेश मंत्रियों ने संयुक्त चेतावनी जारी करते हुए बोला है कि वे सीरिया में शांति बहाली की उनकी योजना को खत्म करने के किसी भी तरह के प्रयासों को सहन नहीं करेंगे तीनों राष्ट्रों के विदेश मंत्रियों सर्गेइ लावरोव, मेवुलत कावुसोग्लू  मोहम्मद जवाद जरीफ अस्ताना शांति प्रयासों का समर्थन कर रहे हैं खबर एजेंसी एफे के मुताबिक, लावरोव ने शनिवार (28 अप्रैल) को हुई मीटिंग के दौरान प्रेस को बताया कि रूस, तुर्की  ईरान ने सीरिया में संकट के निवारण की दिशा में ठोस कदम उठाए हैं

Image result for तुर्की व ईरान ने सीरिया में संकट

इसके साथ ही उन्होंने चेतावनी दी, “हमने यह पूरी तरह से स्पष्ट कर दिया है कि हम शांति बहाली के लिए हमारे योगदान को खत्म करने के प्रयासों का सामना करेंगे ” रूस  ईरान दोनों ही सीरिया की बशर अल असद गवर्नमेंट का समर्थन करते हैं, जबकि तुर्की सीरिया के सशस्त्र विपक्ष को अपनी सैन्य मदद देता है बताते चलें कि दमिश्क के पास कथित रासायनिक हमले के बाद अमेरिका के नेतृत्व में सीरिया के कथित रासायनिक हथियार कारखानों पर हवाई हमले किए गए थे, जिसे लेकर दमिश्क, मॉस्को  तेहरान ने कड़ी असहमति जताई थी

सीरिया ने रूसी मिसाइलों का प्रयोग किया तो करारा जवाब देंगे : इजरायल
इससे पहले इजरायली रक्षामंत्री एविगडोर लिबरमैन ने बीते 23 अप्रैल को बोला था कि अगर सीरिया उनकी वायुसेना के विरूद्ध रूसी एस-300 मिसाइल का प्रयोग करता है तो इजरायल उसे पलट कर करारा जवाब देगा खबर एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, लिबरमैन ने हिब्रू भाषी वाईनेट न्यूज साइट को बताया, “एक बात स्पष्ट है, अगर कोई हमारे विमानों को निशाना बनाता है तो हम उसे नेस्तनाबूद कर देंगे ”

Loading...

मंत्री ने शीर्ष रूसी अधिकारियों के उस बयान के विषय में यह टिप्पणी की थी, जिसमें अधिकारियों ने समाचारपत्र कोमरसैंट को बताया कि रूस सीरिया को विमान भेदी रक्षा प्रणाली एस-300 उपलब्ध करा सकता है लिबरमैन ने बोला था, “रूसी प्रणाली वहां (सीरिया में) हैं  उनका प्रयोग हमारे विरूद्ध नहीं हो रहा है,  अगर सीरियाई प्रणाली हमारे विरूद्ध कार्यकरती है तो हम उसे बर्बाद कर देंगे ”

यह भी पढ़ें:   इंडियन महिला ने एक लोकल युवक से शादी करने के बाद इस्लाम धर्म को अपनाया

सीरिया में अप्रैल की आरंभ में कथित रूप से टी-4 वायुसेना अड्डे पर इजरायली हमले के बाद इजरायल  ईरान के बीच तनाव बढ़ गया है लिबरमैन ने बोला कि उन्हें लगता है कि रूस के पास हमसे उलझने का कोई कारण नहीं है  हम भी उनसे कोई लड़ाई नहीं करना चाहते

Loading...