Wednesday , October 18 2017

नवरात्री के नौवें दिन इसलिए कराया जाता है नौ कन्याओं को भोजन

हिन्दू धर्म में नवरात्रि की बहुत मान्यता है, यह दिन बहुत पवित्र दिन माना जाता है नवरात्रि का त्यौहार साल में दो बार आता है और दोनों त्यौहारों में कन्याओं को पूजा जाता है. लेकिन इस नवरात्रि के दिनो में कन्याओं की बहुत मान्यता होती है, नवरात्रि में नौवे दिन कन्याओं को भोजन खिलाने से पुण्य मिलता है नवरात्री के नौवे दिन 9 कन्याओं की पूजा करके उन्हें भोग लगाया जाता है. ऐसा करने से माता दुर्गा प्रसन्न होती है. और दुखो का निवारण करती है, लेकिन आपको एक बात बता दें की नवरात्रि के दिन अलग अलग उम्र की कन्याओं की पूजा करना चाहिए क्योकि-

2 वर्ष की कन्या को कुमारी और 3 वर्ष की कन्या को त्रिमूर्ति कहते है इनकी पूजा करने से धन, सुख-समृद्धि, आयु में वृद्धि होती है साथ ही परिवार में जितनी भी परेशानियां होती है वह खत्म हो जाती है.

तीन साल की कन्या को त्रिमूर्ति कहते है और इनकी पूजा करने से घर में कभी भी पैसे की कमी नहीं होती है और 4 वर्ष की कन्या को कल्याणी कहते है इनके पूजन से घर में सुख समृद्धि आती है, और अनेको बाधाएं दूर हो जाती है.

नवरात्रि के पांचवे दिन 5 वर्ष की कन्या का पूजन करना चाहिए इस उम्र की कन्या को रोहिणी कहते है, रोहिणी कन्या का पूजन करने से भक्त की सेहत अच्छी रहती है.

loading...

7 वर्ष की कन्या को चण्डिका कहते है इनकी पूजन से घर में संपन्नता आती है, वहीं आठ वर्ष की कन्या को शाम्भवी कहते है इनका पूजन करने से दरिद्रता का नाश होता है, 9 वर्ष की कन्या को मां दुर्गा का स्वरूप माना जाता है इनके पूजन से कठिन से कठिन कार्य आसानी से हल हो जाता है.

 

 

loading...