Tuesday , April 23 2019

नई गवर्नमेंट के PM को जून के पहले सप्ताह में बहुपक्षीय सम्मेलन के लिए करना पड़ेगा विदेशी दौरा

नई गवर्नमेंट के पीएम को जून के पहले सप्ताह में बहुपक्षीय सम्मेलन के लिए विदेशी दौरा करना पड़ेगा. उन्हें जून 14-15 को बिश्केक में आयोजित होने वाले शंघाई योगदान संगठन (एससीओ) सम्मेलन में भाग लेने के लिए जाना होगा. जहां उनका पहली बार पाक के पीएम इमरान खान से आमना-सामना होगा.

वर्तमान लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान पाक का खूब जिक्र हो रहा है. इसकी वजह है पुलवामा आतंकवादी हमला  उसके बाद इंडियन वायुसेना द्वारा की गई एयर स्ट्राइक. यही वजह है कि चुनाव प्रचार में पड़ोसी मुल्क का नाम लिया जा रहा है. हाल ही में इमरान खान ने बोला था कि पाक हिंदुस्तान में दक्षिणपंथी गवर्नमेंट के पक्ष में है. जिसने चुनावी माहौल को गरमाने का कार्य किया है.

पाक के उच्चायुक्त सोहेल महमूद जो नए विदेश सचिव के तौर पर इस्लामाबाद लौट गए हैं. उन्होंने रविवार को कहा, ‘भारत में चुनाव होने के बाद हम दोनों राष्ट्रों के बीच वार्ता की उम्मीद करते हैं. दोनों राष्ट्रों के बीच वार्ता से एरिया में टिकाऊ शांति  सुरक्षा की इमारत खड़ी करने में मदद करेगा.

जून में पीएम जी-20 समिट के लिए ओसाका जाएंगे. यह संसार की शीर्ष अर्थव्यवस्थाओं के नेताओं के साथ उनकी पहली या फिर नयी वार्ता होगी. नए पीएम के लिए बचा आधा वर्षअतंरराष्ट्रीय जिम्मेदारियों से भरा हुआ रहेगा. रूस के साथ सालाना मीटिंग के लिए पीएम को मॉस्को जाना होगा.

इसके बाद भारत-चीन के बीच अनौपचारिक वार्ता होगी जो हिंदुस्तान के पीएम  चाइना के राष्ट्रपति शी जिनपिंग को आमने-सामने लाएगी. सितंबर-अक्तूबर में भारत-अमेरिका के बीच टू प्लस टू डायलॉग होगा. वहीं शरद ऋतु में जापान के पीएम शिंजो आबे हिंदुस्तान दौरे पर आएंगे.