Tuesday , April 23 2019

जिला चिकित्सालय में डेढ़ वर्षीय बच्चे की उपचार के दौरान मौत, हुआ हंगामा

जिला चिकित्सालय में डेढ़ वर्षीय बच्चे की उपचार के दौरान मौत हो जाने पर परिजनों ने रात में चिकित्सक के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। शव रखकर घंटाघर पर जाम लगा दिया। सीओ सिटी, सीएमओ एवं कोतवाल द्वारा चिकित्सक के खिलाफ कार्रवाई करने के आश्वासन के बाद परिजनों ने जाम खोला।

थाना जखौरा अंतर्गत ग्राम विनेकाटोरन निवासी मेघराज के डेढ़ वर्षीय पुत्र अक्षय को निमोनिया होने पर पांच अप्रैल को दिन में 2.45 बजे जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया, जहां उसका इलाज शुरू किया गया। लेकिन, इलाज के दौरान शनिवार की शाम करीब आठ बजे बच्चे की अचानक हालत बिगड़ने से मौत हो गई। मौत से गुस्साए परिजनों व साथियों ने पहले अस्पताल में चिकित्सक से नाराजगी जताई, जिस पर चिकित्सक ने पहले तो तीमारदारों को धमकाया, लेकिन मामला बिगड़ता देख चिकित्सक वहां से भाग कर कोतवाली पहुंच गए। दूसरी ओर, तीमारदार चिकित्सक के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर नारेबाजी करते रहे और कोई सुनवाई नहीं होने पर वह रात को मासूम के शव को लेकर घंटाघर पर पहुंच गए और वहां जाम लगा दिया। जानकारी लगने पर सीओ सिटी राजा सिंह और कोतवाली प्रभारी मनोज वर्मा पहुंच गए और परिजनों को समझाने का प्रयास किया। जानकारी पर सीएमओ डॉ. प्रताप सिंह और वरिष्ठ फिजीशियन अमित चतुर्वेदी भी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने जांच कराने एवं दोषी पाए जाने पर चिकित्सक के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन दिया, जिस पर परिजन व उनके साथियों ने जाम खोला। इसके बाद मासूम के शव को लेकर रोते- बिलखते घर चले गए।