Tuesday , March 26 2019
Breaking News

रिजिजू ने बोला कि CM पेमा खांडू ने साफ किया ये बात

अरुणाचल प्रदेश में हिंसक विरोध प्रदर्शन के बीच, केंद्रीय मंत्री किरण रिजिजू ने रविवार को बोला कि राज्य गवर्नमेंट ने छह समुदायों को स्थायी निवासी प्रमाण लेटर (पीआरसी) देने के लिए एक उच्च-स्तरीय समिति की सिफारिशों को अस्वीकार कर दिया है. इसके लिए रिजिजू ने कांग्रेस पार्टी को लोगों के एक खास वर्ग को उकसाने के लिए दोषी ठहराया है. 

रिजिजू ने अपने ट्वीट में बताया कि अरुणाचल प्रदेश गवर्नमेंट ने नामसी  चांगलांग जिलों में रहने वाले छह समुदायों को पीआरसी न देने का निर्णय किया है. इसके कारण राज्य की राजधानी ईटानगर  अन्य स्थानों पर व्यापक हिंसा की समाचार आई है, जिसमें कम से कम दो व्यक्तियों की मौत हो गई, कई लोगों को चोट लगी  संपत्तियों  वाहनों को नष्ट कर दिया गया है. केंद्र गवर्नमेंट ने कानून  व्यवस्था बनाए रखने में प्रशासन की मदद करने के लिए राज्य में 1,000 अर्धसैनिक बलों को भेजा है.

रिजिजू ने बोला कि CM पेमा खांडू ने साफ किया है कि राज्य गवर्नमेंट पीआरसी पर बिल नहीं ला रही है, लेकिन केवल नबाम रेबिया के नेतृत्व वाली समिति की रिपोर्ट को सदस्यों विद्यार्थी संगठनों से जोड़ रही है. इसका सीधा मतलब है कि राज्य गवर्नमेंट ने इसे स्वीकार नहीं किया है. रेबिया राज्य गवर्नमेंट में कैबिनेट मंत्री हैं.

रिजिजू ने कहा, मैंने प्रारम्भ से ही राज्य गवर्नमेंट से पीआरसी नहीं देने का आग्रह किया है, जब तक कि लोग स्वदेशी अधिकारों के पूर्ण संरक्षण के लिए आश्वस्त नहीं हो जाते. हमें एकजुट होना चाहिए. अरुणाचल प्रदेश के कुछ हिस्सों में लोग राज्य गवर्नमेंट की घोषणा के बाद विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं कि वह छह गैर-अरुणाचल प्रदेश अनुसूचित जनजाति (एपीएसटी) समुदायों नामसी  चांगलांग जिले में रहने वाले  विजयनगर में रहने वाले गोरखाओं को स्थायी निवासी प्रमाण लेटर (पीआरसी) जारी करने पर विचार कर रही है. उन समुदायों में देवरिस, सोनोवाल कछारियां, मोरान, आदिवासी  मूल निवासी शामिल हैं. इनमें से अधिकतर समुदायों को पड़ोसी राज्य असम में अनुसूचित जनजाति के रूप में मान्यता प्राप्त है.

गृह मंत्री ने की शांति बनाए रखने की अपील

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने अरुणाचल प्रदेश के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है. इसे लेकर उन्होंने अरुणाचल के CM पेमा खांडू से भी बात कर राज्य की स्थिति के बारे में जानकारी ली. इससे पहले कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष गांधी ने ट्वीट कर कहा, अरुणाचल प्रदेश में पुलिस की गोलीबारी में बेगुनाह की मौत से मुझे बहुत ज्यादा दुख हुआ. युवक के परिवार के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं. मैं प्रार्थना करता हूं कि घायल लोग शीघ्र स्वस्थ हो जाएं  अरुणाचल में शांति लौट आए.