Saturday , February 16 2019

इस दौरान उन्हें सिर्फ इस लिए बोलने से रोका गया क्यों की बोल रहे थे इसके विरूद्ध 

देश में अभिव्यक्ति आजादी पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं. राष्ट्र में जो लोग केंद्र की मोदी गवर्नमेंट की आलोचना करते हैं, उन्हें इससे रोक जा रहा है. इसकी एक बानगी मुंबई में देखने को मिली है. बॉलीवुड एक्टर अमोल पालेकर नेशनल गैलरी ऑफ मॉर्डन आर्ट (एनजीएमए) प्रोग्राम की एक प्रदर्शनी में शामिल होने गए थे, इस दौरान उन्हें सिर्फ इस लिए बोलने से रोका गया, क्योंकि वे मोदी गवर्नमेंट के संस्कृति मंत्रालय के विरूद्ध बोल रहे थे.

पहले प्रोग्राम के आयोजकों ने उन्हें मंत्रालय की आलोचना न करने के लिए कई दफा टोका. खबरों के अनुसार, जब वे नहीं रुके तो उनका कड़ा विरोध किया गया. ऐसे में नाराज अमोल पालेकर अपना सम्बोधन बीच में ही बंद कर बैठ गए. इस समारोह का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. वीडियो में दिखाई दे रहा है कि पालेकर एनजीएमए के मुंबई  बंगलूरू केंद्रों की एडवाइजरी समिति को कथित तौर पर खत्म करने के लिए संस्कृति मंत्रालय की तीखी आलोचना कर रहे हैं. मंच पर उपस्थित एनजीएमए के एक मेंबर ने इसका विरोध किया  बोला कि उन्हें इस प्रोग्राम के सम्बन्ध में बात करनी चाहिए. इस पर पालेकर ने बोला है कि वे इसी सम्बन्ध में बात करने जा रहे हैं. आप क्या सेंसरशिप लगा रहे हैं.

आयोजक को जवाब देने के बाद पालेकर ने फिर से मंत्रालय की आलोचना प्रारम्भ कर दी. इस पर एक महिला ने विरोध जताया  बोला है कि यह प्रोग्राम प्रभाकर बारवे के सम्बन्ध में रखा गया है  आप उन्हीं के बारे में बात करें. किन्तु, पालेकर ने रुकने से इंकार कर दिया. लगातार विरोध करने से तंग आकर पालेकर को अपना सम्बोधन पूरा बिना किए ही बैठना पड़ा.