Tuesday , March 19 2019
Breaking News

सरकार को देने हैं इन कई सवालों के जवाब : कांग्रेस

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सम्बोधन के बाद कांग्रेस पार्टी ने न सिर्फ उनके सवालों का जवाब दिया बल्कि अच्छे दिन, नोटबंदी, GST  रोजगार जैसे विषयों पर पीएम की चुप्पी पर सवाल उठाए. कांग्रेस पार्टी प्रवक्ता मनीष तिवारी का कहना है कि 2019 का चुनाव मजबूत बनाम मजबूर का नहीं, लड़ाई तानाशाही बनाम लोकतंत्र, सम्बोधन बनाम प्रशासन  जुमला बनाम कार्य की होगी. पीएम को बताना चाहिए अटल बिहारी वाजपेयी की साझेदारी गवर्नमेंट मजबूत थी या मजबूर थी.तिवारी ने बोला करप्शन का आरोप लगाने वाले मोदी ने राफेल पर खाली बोरी, भरी बोरी तो बताया लेकिन सवाल ये है कि दो भरी बोरियों की मूल्य एक दिन कैसे बढ़ गई. 10 अप्रैल 2015 तक जिस बोरी की मूल्य 526 करोड़ थी, 11 अप्रैल को 1600 करोड़ की कैसे हो गई.Image result for सरकार को देने हैं इन कई सवालों के जवाब : कांग्रेस
कांग्रेस ने सवाल उठाया कि पीएम कहते हैं कांग्रेस पार्टी ने स्वायत्त संस्थाओं की इज्जत नहीं की. पीएम को जवाब देना चाहिए 55 महीने की मोदी गवर्नमेंट में दो भारतीय रिजर्व बैंकगवर्नर ने त्याग पत्र क्यों दिया? जस्टिस एके पटनायक ने CBI निदेशक को लेकर जो बातें कही हैं आखिर कौन सी वजह थी जो आलोक वर्मा ने 31 जनवरी रिटायर होने तक भी नहीं रहने दिया. यूपीए ने कभी CBI को पॉलिटिक्स द्वेष के लिए दुरुपयोग नहीं किया.

पीएम कहते हैं पटेल अगर राष्ट्र के पहले पीएम होते तो तस्वीर कुछ  होती. वे ये बताना जानबूझ कर भूल गए कि पटेल कांग्रेस पार्टी के नेता थे  पंडित नेहरू के करीब जिन्होंने आजादी की लड़ाई भी लड़ी. वे उन लोगों में नहीं थे जिन्होंने आजादी की लड़ाई में भाग नहीं लिया  लिखकर माफी मांगकर जान बचाई. हिंदुस्तान का इतिहास 26 मई 2014 से प्रारम्भनहीं होता है.

कांग्रेस पार्टी प्रवक्ता ने कहा,  उनके सम्बोधन में 55 महीने बाद सबका साथ-सबका विकास जुमला सुनाई दिया लेकिन अच्छे दिन का जिक्र नहीं किया. उम्मीद थी कि अपनी सबसे बड़ी उपलब्धि के तौर पर नोटबंदी की बात करेंगे जिसने एक साथ 124 करोड़ हिंदुस्तानियों को प्रताड़ित किया.

जनता पर कर लगाने के लिए उत्सव के साथ GST लगाया एक बार भी जिक्र नहीं किया. किसानों के दर्द की बात की लेकिन अगर गवर्नमेंट संवेदनशील है तो किसान आंदोलनरत सड़कों पर क्यों है. किसान अपनी फसल की मूल्य का चेक पीएम को भेज रहे हैं.