Friday , January 18 2019

2014 के बाद ऐसे बिखरता रहा है NDA का कुनबा

2019 लोकसभा चुनाव का बिगुल अभी नहीं बजा है, लेकिन अभी से ही चुनावी योद्धा ताल ठोकते नजर आ रहे हैं। 2019 लोकसभा चुनाव में सबकी निगाहें कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और नरेंद्र मोदी पर टिकी हुई है। लेकिन सबसे दिलचस्प बात यह है कि आगामी लोगकसभा चुनाव के लिए एनडीए की ताकत धीरे-धीरे कमजोर होती जा रही है, क्योंकि सहयोगी दलों का एनडीए से मोहभंग होता जा रहा है।

एक मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अब तक एनडीए के 16 घटक दल गठबंधन छोड़ चुके हैं। बताया जा रहा है कि अभी एनडीए के पांच और घटक दल भाजपा पर दबाव बनाए हुए हैं और गठबंधन छोड़ने की दबी जुबान से चेतावनी दे रहे हैं।

loading...

28 से हो गए थे 42

आपको बता दें कि साल 2014 के चुनावों में भाजपा ने 28 दलों के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था। उन चुनावों में भाजपा को 282 और 22 घटक दलों को कुल 54 सीटें मिली थीं। चुनाव के बाद भाजपा ने कई छोटे-छोटे दलों को एनडीए में शामिल किया था। जिसके कारण एनडीए के घटक दलों की संख्या बढ़कर 42 हो गई थी।

Loading...
loading...