Friday , March 22 2019
Breaking News

दो शीर्ष अर्थव्यवस्थाओं ने एक दूसरे के उत्पादों पर इतने अरब डॉलर का लगाया शुल्क

विवादित द्वीप के पास से अमेरिकी युद्धपोत के गुजरने के बाद चाइना ने सोमवार को अमेरिका के समक्ष कठोर राजनयिक विरोध दर्ज कराया चाइना ने बोला है कि अमेरिका को इस तरह के ‘भड़काऊ’ कदम से परहेज करना चाहिए  मौजूदा कारोबारी टकराव पर पास बातचीत के लिए माहौल बनाने का कोशिश करना चाहिए अमेरिका का निर्देशित मिसाइल विनाशकारी पोत मैककैंपबेल में विवादित पारासेल द्वीप के पास से होकर गुजरा यह वाकया ऐसे वक्त हुआ है, जब दोनों राष्ट्रों के ऑफिसर कारोबारी टकरावसुलझाने के लिए आमने-सामने बैठकर वार्ता प्रारम्भ करने वाले हैंImage result for दो शीर्ष अर्थव्यवस्थाओं ने एक दूसरे के उत्पादों पर इतने अरब डॉलर का लगाया शुल्क

दुनिया की दो शीर्ष अर्थव्यवस्थाओं ने एक दूसरे के उत्पादों पर 300 अरब डॉलर से ज्यादा का आयात शुल्क लगाया है अमेरिका प्रशांत बेड़े की प्रवक्ता रचेल मैकमार ने बोला कि समुद्री एरिया को लेकर बढ़ चढ़कर किये जा रहे दावे को चुनौती देने के लिए अमेरिकी पोत नौवहन संचालन की स्वतंत्रता के तहत पारासेल द्वीपीय श्रृंखला के 12 नॉटिकल मील के दायरे से गुजरा

चीन तकरीबन समूचे पर अपना हक जताता है  उसने कृत्रिम तरीके से बनाए गए द्वीप में सैन्य ठिकाना भी बनाया है वियतनाम, फिलीपीन, मलेशिया, ब्रूनेई  ताइवान पर अपना-अपना दावा करते हैं पारसेल द्वीप पर चीन, ताइवान  वियतनाम अपना अधिकार जताते हैं

पारासेल द्वीप के पास से होकर अमेरिकी पोत के गुजरने के बारे में रिएक्शन के लिए पूछे जाने पर चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लू कांग ने बोला कि बीजिंग ने इस मुद्दे पर अमेरिका के समक्ष कड़ा विरोध दर्ज कराया है उन्होंने बोला कि अमेरिकी जहाज चाइना की अनुमति के बिना इलाके से गुजरा

चीन ने पुष्टि के लिए अपने नौसैन्य पोत को भेजा  उसे आगाह किया गया यह पूछने पर कि क्या इस अभियान का प्रभाव दोनों राष्ट्रों के बीच मौजूदा व्यापार बातचीत पर पड़ेगा इस पर उन्होंने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि व्यापारिक टकराव का समुचित निवारण संसार के लिए महत्वपूर्ण है दोनों पक्षों के लिए यह आवश्यक है कि बातचीत का माहौल बनाया जाए ’’