Monday , January 21 2019

मोइन कुरैशी केवल हिंदुस्तान में ही नहीं विदेश में भी करता है ये काम

जिस मीट कारोबारी की वजह से राष्ट्र की सबसे बड़ी एजेंसी केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) में भूचाल आ गया, जो अब तक तीन CBI डायरेक्टर्स की बलि ले चुका है. उसकी कहानी जानकर आज सभी दंग हैं. मूल रूप से कानपुर का रहने वाला मीट कारोबारी मोइन कुरैशी केवल हिंदुस्तान में ही नहीं विदेश में भी अपना मीट का कारोबार चला रहा है. रामपुर में छोटे से बूचड़खाने की आरंभ करने वाला मोइन कैसे शक्तिशाली कारोबारी बन गया इसके किस्से आज जग जाहिर होने लगे हैं. मोइन कुरैशी ही वो शख्स है जिसके केस की वजह से CBI की भीतरी लड़ाई सड़क पर आ गई.  Image result for मोइन कुरैशी
रामपुर में जन्मा मोइन अख्तर कुरैशी यूपी के कानपुर से ताल्लुक रखता है. वर्ष 1993 में उसने कानपुर  रामपुर में छोटा सा बूचड़खाना खोला था  जल्द ही वह राष्ट्र का सबसे बड़ा मांस कारोबारी बन बैठा. पच्चीस वर्षों से मोइन ने निर्माण  फैशन समेत कई क्षेत्रों में 25 से ज्यादा कंपनियां खड़ी कर लीं. उसने अपनी पढ़ाई दून स्कूल  सेंट स्टीफेंस से की थी. उसके विरूद्ध कर चोरी, मनी लॉन्ड्रिंग  करप्शन में शामिल होने के कई आरोप लगे  जांच हुई. इसके साथ-साथ उसने हवाला के जरिए बड़ा लेनदेन किया. उस पर CBI अफसरों, राजनेताओं समेत कई अधिकारियों को घूस देने के भी आरोप लगे.

मोइन कुरैशी का नाम सबसे पहले 2014 में सामने आया, जब यह पता चला कि 15 महीने में कुरैशी कम से कम 70 बार तत्कालीन सीबीई चीआफ रंजीत सिन्हा के घर पर गया था.आलोक वर्मा  अस्थाना के बीच मौजूदा टकराव में हैदराबाद के बिजनसमैन सतीश बाबू सना का नाम भी सामने आया है. सना ने पिछले वर्ष प्रवर्तन निदेशालय को कथित तौर पर बताया था कि उसने सिन्हा के जरिए एक CBI केस में फंसे अपने दोस्त को जमानत दिलाने के लिए 1 करोड़ रुपये कुरैशी को दिए थे.

वर्ष 2014 में पता चला कि कुरैशी  एक अन्य CBI डायरेक्टर एपी सिंह के बीच मैसेज का आदान-प्रदान हुआ था. सिंह 2010 से 2012 तक एजेंसी के हेड रहे. इनकम टैक्स विभाग इडी ने मामले की जांच की  पिछले वर्ष फरवरी में CBI ने भी सिंह के विरूद्ध केस दर्ज किया, जिससे कुरैशी के साथ उनके संबंधों की जांच हो सके. आरोपों के चलते सिंह को संघ लोक सेवा आयोग में सदस्य की अपनी पोस्ट छोड़नी पड़ी. एपी सिंह भी लगातार आरोपों से मना करते रहे. उन्होंने यह भी बोला कि CBI ने अब तक उनसे संपर्क नहीं किया है.

loading...

जांच एजेंसियों में भी गहरी पैठ रखता है कुरैशी

कुरैशी की जांच के सिलसिले में आलोक वर्मा पर सवाल खड़े किए गए. गवर्नमेंट ने उनसे सभी अधिकार वापस ले लिए. दरअसल, राकेश अस्थाना ने आरोप लगाया है कि कुरैशी केस में राहत पहुंचाने के लिए वर्मा ने सना से दो करोड़ रुपये की घूस ली है. दूसरी ओर आलोक वर्मा ने अस्थाना के विरूद्ध पिछले सप्ताह एफआईआर दायर की, जिसमें आरोप लगाया गया कि अस्थाना ने सना से तीन करोड़ रुपये की घूस ली. CBI ने 15 अक्टूबर को अपने स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के विरूद्ध मोइन कुरैशी से तीन करोड़ रुपये की घूस लेने के आरोप में एफआईआर दर्ज की.

देश-विदेश में दो दर्जन से ज्यादा कंपनियों के मालिक कुरैशी की प्रमुख कंपनी है एएमक्यू एग्रो जो मांस एक्सपोर्ट करती है. मोइन का दिल्ली के छतरपुर में एक शानदार फार्महाउस है जिसे जर्मनी के जाने माने आर्किटेक्ट जीन लुई ने डिजाइन किया था. पीएम नरेंद्र मोदी ने 2014 में अपनी रैलियों में आरोप लगाया था कि कुरैशी पर कांग्रेस पार्टी आलाकमान का हाथ है इसीलिए जांच एजेंसियों के रडार पर होने बाद भी उससे कभी पूछताछ नही की गई.

सियासी गलियारों के अतिरिक्त जांच एजेंसियों में भी कुरैशी की गहरी पैठ है. राकेश अस्थाना से पहले CBI के पूर्व डायरेक्टर रंजीत सिन्हा  एपी सिंह भी कुरैशी से रिश्तों के चलते टकराव में फंस चुके हैं. फरवरी 2014 में इनकम कर ने कुरैशी के जिन 15 ठिकानों पर छापा मारा उनमें से एक एपी सिंह का था. जहां से कुरैशी बाकायदा अपना कार्यालय चलाता था.इसी के चलते जनवरी 2015 में एपी सिंह को यूपीएससी मेंबर के पद से त्याग पत्र देना पड़ा था.

कुरैशी पहली बार चर्चा में तब आया जब उसकी बेटी परनिया कुरैशी की विवाह सीए अर्जुन प्रसाद से हुई, वर्ष 2011 में हुई इस विवाह में पानी की तरह पैसा बहाया गया था, जिसमें देश-विदेश के कई बड़े लोग शामिल हुए थे, ये विवाह जांच के घेरे में थी. इसी विवाह में मोइन ने पाकिस्तानी गायक राहत फतेह अली खान को गाने के लिए बुलाया था, जो वापसी के वक्त, दिल्ली एयरपोर्ट पर 56 लाख विदेशी मुद्रा के साथ पकड़े गए थे.

इसके बाद सात अगस्त 2015 को मुजफ्फर अली की फिल्म ‘जांनिसार’ रिलीज हुई. इस फिल्म में लीड भूमिका परनिया ने किया था, इस फिल्म में इमरान अब्बास नकवी हीरो थे.फिल्म एक पीरियड ड्रामा थी जो बॉक्स कार्यालय पर चल नहीं पाई. बोला जाता है कि इस फिल्म में पैसा मोइन ने ही लगाया था.

हॉट फोटोशूट की वजह से चर्चा में रहीं परनिया

इसके बाद मोइन कुरैशी की बेटी अपने हॉट फोटोशूट की वजह से भी चर्चा में रहीं, लोगों ने बोला कि फिल्म नहीं चली इसलिए वो ये सब कर रही हैं. परनिया स्टाइलिस्ट के तौर पर फिल्म ‘आयशा’ के लिए कार्य कर चुकी हैं. जब 2011 में बेटी परनिया की विवाह थी तो जॉन गैलीनियों द्वारा डिजाइन किया 80 लाख गाउन पहनने का मामला चर्चा-ए-खास था. यह पहला मौका था, जब यह मीट कारोबारी बेटी की विवाह की वजह से पहली बार सुर्खियों में आया.

पाकिस्तानी हीरोइन से की शादी

मोइन कुरैशी की बीवी नसरीन की बात करें तो वह पाकिस्तानी मूल की हैं. विवाह से पहले नसरीन पाक की अदाकारा थीं. कई छोटी फिल्मों  ड्रामा में भूमिका किए. फिर बाद में इंडियनमीट कारोबारी मोइन कुरैशी के संपर्क में आईं तो विवाह हुई. पेशे से फैशन डिजाइनर बेटी परनिया कुरैशी का जन्म भी कराची में ही हुआ था. बीवी नसरीन अपनी लक्जरी जीवन स्टाइल के लिए भी जानी जाती है.

जब मोइन कुरैशी के विरूद्ध मनी लॉन्ड्रिंग केस में प्रवर्तन निदेशालय ने जांच प्रारम्भ की थी, तब तैयार हुई चार्जशीट में बीवी नसरीन कुरैशी की लग्जरी लाइफस्टाइल का भी जिक्र था.2011-2014 के बीच जांच एजेंसियों के अफसरों को भी विदेशी महंगे गिफ्ट से उपकृत करने का आरोप था. रिपोर्ट्स में खुलासा हुआ था कि न्यूयॉर्क, पेरिस  लंदन के महंगे होटलों में रहने के दौरान नसरीन ने महंगे साजोसामान खरीदे.

प्रवर्तन निदेशालय ने उन सभी होटल्स से भी बिल मांगे थे, जहां नसरीन ठहरी थी. चार्जशीट में दिल्ली के छतरपुर में कुरैशी परिवार के दो सौ करोड़ मूल्य के एक फार्म हाउस का भी जिक्र है. नफासत का आलम यह था कि इसकी डिजाइनिंग के लिए कुरैशी ने फ्रेंच आर्किटेक्ट लुइस डेनियट को बुलाया था. प्रवर्तन निदेशालय ने फ्रेंच आर्किटेक्ट को हुए भुगतान की भी जांच की थी.

Loading...
loading...