Tuesday , March 26 2019
Breaking News

जापान में इतने किलोग्राम प्रति हेक्टेयर कीटनाशक का होता है इस्तेमाल

दुनिया के तमाम राष्ट्रों के मुकाबले हिंदुस्तान में कीटनाशकों का इस्तेमाल सबसे कम होता है. कृषि मंत्रालय का कहना है कि राष्ट्र में जैविक खेती को बढ़ावा देने के साथ ही किसानों को कीटनाशकों के कम इस्तेमाल के लिए जागरूक भी किया जाता है.

कृषि मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, तमाम राष्ट्रों की तुलना में कीटनाशकों का सबसे कम उपयोग हिंदुस्तान में होता है.  मंत्रालय का कहना है अमेरिका, यूरोप, जापान  कोरिया में हिंदुस्तान की अपेक्षा प्रति हेक्टेयर कीटनाशक की खपत कई गुना ज्यादा है. हिंदुस्तान में जहां प्रति हेक्टेयर 0.5 किलोग्राम कीटनाशक का इस्तेमाल किया जाता है. वहीं, अमेरिका में 7 किलोग्राम कीटनाशक प्रति हेक्टेयर, यूरोप में 2.5 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर, जापान में 12 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर  कोरिया में 6.6 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर कीटनाशक का इस्तेमाल किया जाता है.Image result for जापान में 12 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर कीटनाशक का होता है इस्तेमालराष्ट्र में कृषि मंत्रालय कीटनाशकों के अत्यधिक इस्तेमाल को रोकने के लिए किसानों को जागरुक करता है  उन्हें बताता है कि निर्धारित मात्रा में इसका उपयोग ही मानव, जानवर पर्यावरण के लिए उचित है.

निगरानी करता है मंत्रालय 
कृषि मंत्रालय निरंतर कीटनाशकों के उपयोग  उनकी गुणवत्ता की निगरानी भी करता है. राष्ट्र का कोई भाग अगर एक सीमा से अधिक कीट से प्रभावित होता है तो मंत्रालय तत्काल कदम उठाता है लेकिन इस दौरान भी कीटनाशकों के इस्तेमाल की सीमा निर्धारित होती है. इसके लिए प्रशिक्षित लोगों की टीम कार्य करती है.

जैविक प्रमाणीकरण को बढ़ावा

मंत्रालय के मुताबिक, गवर्नमेंट ने जैविक प्रमाणीकरण को बढ़ावा देने के लिए कृषि उत्पाद अधिनियम के तहत नए नियम बनाए हैं. साथ ही उर्वरक नियंत्रण आदेश के तहत जैव उर्वरकों  जैविक उर्वरकों के विनिर्माण के लिए जरूरी आदेश अधिसूचित किए हैं. इंडियन खाद्य मानक  सुरक्षा प्राधिकरण ने जैविक खाद्य उत्पादों के लिए वैध राष्ट्रीय जैविक उत्पादन  भागीदारी गारंटी प्रणाली के प्रमाणन प्रक्रिया को भी मान्यता दी है.

प्रतिबंधित कीटनाशक का उपयोग

इन सबके बीच एक सच्चाई यह भी है कि राष्ट्र में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिबंधित कीटनाशकों का धड़ल्ले से प्रयोग हो रहा है. कृषि मंत्रालय के अनुसार, विश्व में एक या उससे ज्यादा राष्ट्रों द्वारा प्रतिबंधित कीटनाशकों का खुलेआम उपयोग हिंदुस्तान में किया जाता है. ऐसे कुल 66 कीटनाशक हैं जिन पर अन्य राष्ट्रों ने रोक लगा रखी है लेकिन हिंदुस्तान में इन्हें खपाया जा रहा है.