Saturday , February 23 2019
Breaking News

ऐसा करने से महिलाओ को मिलता है चरम सुख

सेक्स के दौरान महिला को संतुष्ट कर पाना पुरुषों के लिए थोड़ा कठिन होता है हर महिला की चरम तृप्ति एक समान नहीं होती है हर स्‍त्री के आर्गेज्‍म अनुभव अलग होता है जिसके बारे में हम आपको भी बता देते हैं डॉ विलि, वैंडर और फिशर के अनुसार, चरमतृप्ति या आर्गेज्‍म के समय महिला की योनि द्वार, भगांकुर, गुदापेशी और गर्भाशय मुख के पास की पेशियां तालबद्ध रूप में फैलने और सिकुड़ने लगती है कभी-कभी ये पांचों एक साथ गतिशील हो जाती है, उस समय स्‍त्री के आनंद की कोई सीमा नहीं रह जाती है इसी दौरान वो अपने चरम सुख को पाती हैंRelated image

वहीं कोई महिला अनुभव करती है कि उसका गर्भाशय एक बार खुलता फिर बंद हो जाता है इसमें कई महिलाओं के मुंह से सिसकारी निकलने लगती है जिससे ये पता चला है कि वो चरम सुख को पा रही है वहीं कुछ महिलाओं में संपूर्ण योनि प्रवेश, गुदा से लेकर नाभि तक में सुरसुराहट की तरंग उठने लगती है कई बार यह तरंग जांघों तक चली जाती है उस समय स्‍त्री के चरम आनंद का ठिकाना नहीं रहता

कुछ महिलाओं को लगता है कि उनकी योनि के भीतर गुब्‍बारे फूट रहे हैं या फिर आतिशबाजी हो रही है यह योनि के अंदर तीव्र हलचल का इशारा है, जो स्‍त्री को सुख से भर देता हैइन्ही स्थिति में महिला अपने अत्यंत चरम सुख पर होती हैं या फिर अपने चरम सुख को प्राप्त करती हैं