Saturday , February 23 2019
Breaking News

45 मिनट के गतिरोध के बाद अध्यक्ष ने पुलिस को बुलाया अंदर

श्रीलंकाई संसद में शुक्रवार को लगातार दूसरे दिन भी हंगामेदार स्थिति देखने को मिली जहां विवादित पीएम महिंदा राजपक्षे के समर्थकों ने अध्यक्ष कारू जयसूर्या की कुर्सी पर कब्जा जमा लिया  नारेबाजी की, जिसके बाद जयसूर्या ने सदन के अंदर पुलिस बुला ली  सदन की कार्यवाही सोमवार तक स्थगित कर दी  Image result for 45 मिनट के गतिरोध के बाद अध्यक्ष ने पुलिस को बुलाया अंदर

यह हंगामा अध्यक्ष द्वारा राजपक्षे के विरूद्ध अविश्वास प्रस्ताव के बाद कोई पीएम या गवर्नमेंट नहीं होने की घोषणा के एक दिन बाद हुआ शुक्रवार की कार्यवाही विश्वास मत की प्रक्रिया को दोहराने के लिए थी जिसे बृहस्पतिवार को बाधित कर दिया गया था

राजपक्षे का समर्थन कर रहे सांसद अध्यक्ष के आसन पर बैठ गए
पिछले महीने एक विवादित कदम के तहत राजपक्षे को पीएम बनाने वाले राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना हटाए गए पीएम रानिल विक्रमसिंघे के साझेदारी के नेताओं के साथ वार्ता में बीती रात सदन में शक्ति परीक्षण पर सहमत हो गए थे अधिकारियों ने बोला कि राजपक्षे का समर्थन कर रहे सांसद अध्यक्ष के आसन पर बैठ गए, जिससे कार्यवाही में देर हुईउन्होंने जयसूर्या के विरूद्ध नारेबाजी भी की

करीब 45 मिनट तक गतिरोध बरकरार रहने के बाद अध्यक्ष ने पुलिस को संसद के अंदर बुला लिया इस बीच सांसद अरूंदिका फर्नांडो ने अध्यक्ष की कुर्सी पर कब्जा जमा लिया बाकी सांसदों ने उसे घेर लिया एक वरिष्ठ राजनेता जैमिनी जयविक्रमा परेरा इस दौरान हुई धक्का मुक्की में घायल हो गए

हंगामा कर रहे युनाइटेड पीपुल्स फ्रीडम अलायंस (यूपीएफए) सदस्यों ने विक्रमसिंघे की युनाइटेड नेशनल पार्टी (यूएनपी) के दो सांसदों की गिरफ्तारी की मांग की उनका आरोप था कि कल हुए बवाल के दौरान सांसद पलिथा थेवाराप्पेरूमा  रंजन रामनायके चाकू लेकर आए थे सदन में कल हुए हंगामे के दौरान यूपीएफए सांसद दिलम अमुनुगमा घायल हो गए थे

पुलिस ने शुक्रवार को जयसूर्या का हंगामा कर रहे सांसदों से बचाव किया जयसूर्या ने घोषणा की कि ध्वनिमत के आधार पर राजपक्षे के विरूद्ध प्रस्ताव नाकाम रहा क्योंकि हंगामे की वजह से भौतिक रूप से मतदान नहीं हो सका

सांसदों ने पुलिस पर फेंकीं किताबें 
हंगामा कर रहे सांसदों ने पुलिस पर किताबें फेंकीं जयसूर्या ने तत्काल बाद सदन की कार्यवाही को 19 नवंबर तक स्थगित कर दिया  पुलिस की घेराबंदी में वहां से निकल गएराष्ट्रपति सिरिसेना ने बोला कि वह किसी भी हालात में सदन का सत्रावसान नहीं करेंगे

राष्ट्रपति ने ट्वीट किया, ‘मैं सभी सांसदों से अनुरोध करता हूं कि वे लोकतांत्रित संसदीय परंपराओं के सिद्धांतों को हर समय बरकरार रखें मैं किसी भी हालात में संसद का सत्रावसान नहीं करूंगा ’