Sunday , November 18 2018
Loading...

दिल्ली वालों को क्लीन एयर जोन के जरिए मिलेगी शुद्ध हवा

दिल्ली गैस चेंबर में तब्दील है सरकार, एनजीटी, सीपीसीबी इनकी ओर से उठाए कदम नाकाम होते दिख रहे हैं, क्योंकि मंगलवार का दिन पल्यूशन के सारे रिकार्ड तोड़ रहा था  इशारा ऐसे हैं कि आने वाले कुछ दिन  दशा बुरे होंगे ऐसे में शुद्ध हवा के लिए दिल्ली वाले तरस रहे हैं आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि ऐसा मुमकिन भी है कि दिल्ली वालों को शुद्ध हवा मिले, क्लीन एयर जोन के जरिए

Image result for दिल्ली वालों को क्लीन एयर जोन के जरिए मिलेगी शुद्ध हवा

क्या  कैसे कार्य करेगा क्लीन एयर जोन है
दिल्ली के रकाबगंज गुरुद्वारे में क्लीन एयर जोन बनाया गया है य़े जोन बना तो जून 2018 में था, लेकिन बीते कल इसे एनपीएल (नेशनल फीजिकल लेबोरेटरी) से सर्टिफिकेशन मिला है इस क्लीन एयर जोन में हवा 90 प्रतिशत शुद्ध होगी गुरुद्वारे के बाहर पीएम 2.5, 350 के पास था जो इस जोन के अंदर सिर्फ 50 था जोन की क्षमता 50-100 स्केवर मीटर तक की हवा को शुद्ध कर सकता है

इसमें ऐसे फिल्टर का प्रयोग किया गया है, जो बाहर की प्रदूषित हवा को अंदर फिल्टर करके एक बबल पैदा करती है  शुद्ध हवा को आस-पास ही रखती है बाहर निकलने नहीं देतीमतलब अगर प्रदूषित हवा अंदर आती है  अंदर भी प्रदूषित हवा रहेगी तो शुद्ध हवा कैसे मिलेगी इसलिए अंदर ऐसे एयर फिल्टर का प्रयोग किया गया है जो बाहर की प्रदूषित हवा को अंदर फिल्टर करके शुद्ध हवा के संस्पर्श में लाती है

ये तकनीक हिंदुस्तान की नहीं है लेकिन हिंदुस्तान में पहली बार इसका पायलट प्रोजेक्ट लगाया है हवा को रोकना या पूरे शहर की हवा को शुद्ध करना संभव नहीं है लेकिन इस तरह के क्लीयर एयर जोन से कम से कम आप अपने आस-पास के इलाकों की हवा शुद्ध कर सकते हैं ये छोटे छोटे फिल्टर के साथ खुले में लगाए जाएंगे जैसे स्कूल, कालेज, अस्पताल, मॉल, सड़क किनारे, बस स्टॉप या होटल में जहां खुली स्थान है वहां ये एयर फिल्टर लग सकते हैं

ये तकनीक बनाने वाली कंपनी एवरजेन के कंट्री हेड सोधी जी बी सिंह ने बताया कि विदेशों में ये तकनीक है लेकिन हिंदुस्तान में पहली बार ऐसा कुछ बनाया गया है जो बहुत सस्ती तकनीक है इसको लगाने में कम से कम खर्च 6-7 लाख रुपए का आएगा हमने एनडीएमसी, एमसीडी, एनजीटी से बात की है हर किसी ने तकनीक को सराहा है लेकिन कोई अब तक इसे लगाने के लिए आगे नहीं आया है दिल्ली के जो हाल है उसे देखते हुए इसकी आवश्यकता बढ़ गई है इसमें खर्च भी ज्यादा नहीं है ये हमारी पेटेंट तकनीक है

Loading...
Loading...