Thursday , October 18 2018
Loading...

न्यायाधीशों पर लगा दबाव डालने का आरोप

पाकिस्तान की सेना ने न्यायालय के एक न्यायाधीश द्वारा राष्ट्र की शक्तिशाली खुफिया एजेंसी इंटर सर्विसेज इंटेलीजेंस (आईएसआई) पर लगाए गए आरोपों को लेकर रविवार(22 जुलाई) को राष्ट्र के सर्वोच्च कोर्ट से कार्रवाई करने का अनुरोध किया। इस्लामाबाद उच्च कोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति शौकत अजीज सिद्दीकी ने कल आईएसआई पर न्यायपालिका के कामकाज में हस्तक्षेप करने एवं अनुकूल फैसलों के लिए मुख्य न्यायाधीश एवं दूसरे न्यायाधीशों पर दबाव डालने का आरोप लगाया था।

Image result for न्यायाधीशों पर

उन्होंने आरोप लगाया था कि खुफिया एजेंसी पूर्व पीएम नवाज शरीफ से जुड़े मामले सहित कई मामलों में न्यायिक कार्यवाही को प्रभावित कर रही है। न्यायमूर्ति सिद्दीकी ने बोला था , ‘‘ उनके (आईएसआई) कर्मी अपनी मर्जी से पीठों का गठन करवाते हैं । ’’

Loading...

सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफ्फूर ने एक बयान में बोला कि एक ‘‘ माननीय न्यायाधीश ’’ ने न्यायपालिका एवं प्रमुख खुफिया एजेंसी सहित सरकारी संस्थानों पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने बोला , ‘‘ सरकारी संस्थानों की शुचिता एवं विश्वसनीयता की रक्षा के लिए सर्वोच्च कोर्ट से आरोपों की सच्चाई का पता लगाने के लिए उचित प्रक्रिया प्रारम्भ करने व तदनुसार कार्रवाई करने का अनुरोध किया गया है । ’’

इससे पहले मुख्य न्यायाधीश सादिक निसार ने भी सिद्दीकी की टिप्पणियों का गंभीरता से संज्ञान करते हुए पाक इलेक्ट्रॉनिक मीडिया रेगुलेटरी अथॉरिटी (पेमरा) से उनके सम्बोधन का पूरा रिकार्ड मुहैया कराने का आदेश दिया। न्यायमूर्ति सिद्दीकी ने यह भी दावा किया कि आईएसआई ने उन्हें इस्लामाबाद उच्च कोर्ट का मुख्य न्यायाधीश बनाने की पेशकश की थी।

Loading...