Tuesday , March 26 2019
Breaking News

इकरामुल्ला आत्मघाती विस्फोट में गंभीर रूप से हुए घायल

हिंसाग्रस्त खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के डेरा इस्माईल खान में आज एक आत्मघाती हमले में एक पूर्व प्रांतीय मंत्री व पाक तहरीक-ए-इंसाफ के वरिष्ठ नेता की मौत हो गई। पुलिस ने बताया कि पीके-99 निर्वाचन एरिया से प्रांतीय असेंबली सीट के उम्मीदवार इकरामुल्ला गंडापुर एक चुनावी मीटिंग के लिए जा रहे थे। तभी, रास्ते में एक आत्मघाती हमलावर ने उनके वाहन को अपना निशाना बनाया। डेरा इस्माईल खान के जिला पुलिस ऑफिसर (डीपीओ) मंजूर अफरीदी ने बोला कि हमले में इकरामुल्ला का कार चालक भी मारा गया जबकि तीन सुरक्षाकर्मी बुरी तरह घायल हो गए।

Image result for इकरामुल्ला आत्मघाती विस्फोट में गंभीर रूप से हुए घायल

इकरामुल्ला आज प्रातः काल हुए आत्मघाती विस्फोट में गंभीर रूप से घायल हुए थे जिसके बाद उन्हें हेलीकॉप्टर से पेशावर के एक अस्पताल ले जाया गया । लेकिन उपचार के दौरान कुछ ही घंटे बाद उन्होंने दम तोड़ दिया। वह पीटीआई के नेतृत्व वाले खैबर पख्तूनख्वा मंत्रिमंडल में प्रांतीय कृषि मंत्री रहे थे।

इकरामुल्ला डेरा इस्माईल खान पीके-67 सीट से उपचुनाव में चुने गए थे । डेरा इस्माइल खान पीके-67 सीट इकरामुल्ला के भाई व कानून मंत्री इसरारूल्ला गंडापुर की एक आत्मघाती हमले में मौत के बाद रिक्त हुई थी। अफरीदी ने बताया कि इकरामुल्ला कुलाची तहसील में एक नुक्कड़ सभा में भाग लेने के बाद लौट रहे थे जब एक संकरी सड़क पर उनके वाहन पर हमला हुआ।

घटना के तुरंत बाद पुलिस व सुरक्षा बलों के अधिकारियों ने इलाके की घेराबंदी कर दी व तलाशी अभियान प्रारम्भ कर दिया। लगभग उसी समय बन्नू जिले में जमीयत उलेमा इस्लाम फज्ल (जेयूआई-एफ) के नेता व खैबर पख्तूनख्वा के पूर्व CM अकरम खान दुर्रानी पर 10 दिन के अंदर दूसरी पर जानेलवा हमला किया गया।

दुर्रानी उत्तर वजीरिस्तान जिले की सीमा से लगे अपने गृह जिले बन्नू में एक राजनीतिक सम्मेलन में भाग लेने जा रहे थे । तभी, उनके वाहन पर अज्ञात बंदूकधारियों ने अंधाधुंध गोलियां बरसायीं। दुर्रानी एनए-35 सीट से मुत्तहिदा मजलिस-ए-अमाल (एमएमए) के बैनर तले इमरान खान की पीटीआई के विरूद्ध चुनाव लड़ रहे हैं। 25 जुलाई को होने वाले चुनाव से पहले बन्नू जिले में किसी उम्मीदवार पर हुआ यह तीसरा व दुर्रानी पर दूसरा हमला है। चुनाव से पहले पाक में सुरक्षा की स्थिति बिगड़ी है । आम चुनाव के लिए प्रचार आतंकवादी हमलों से प्रभावित हुए हैं । तहरीक-ए-तालिबान व आईएसआईएस ने इन हमलों की जिम्मेदारी ली है।